श्रीकृष्ण, स्वामी विवेकानंद और वेदांत के संदेश को फैलाने के लिए रामकृष्ण मठ, नागपुर 1936 से मराठी और हिंदी में पुस्तकें प्रकाशित कर रहा है।